चंद्रघंटा मंत्र

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चन्द्रघण्टा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्। सिंहारूढा चन्द्रघण्टा यशस्विनीम्॥

अर्थ हे देवी माँ चंद्रघंटा आप सब जन की सेवा करने वाले है। हे माँ आपको हमारा प्रणाम है। हे माँ चंद्रघंटा आपके सिर पे चंद्रमा विराज़मान है। हे माँ आप सिंह की सवारी करती हो, आप यशस्वी है। हे माँ चंद्रघंटा आप हमें शत्रुओं पर विजय दिलाए और हमारे दुःखों का निवारण करें।

Verified by MonsterInsights