रक्षा बंधन से जुड़ी कथाएं !

हर साल भारत में लोग अपने प्रियजनों के साथ कई व्यक्तिगत अवसर और त्योहार एक साथ मानते हैं। ऐसा ही एक त्यौहार जो उनके लिए सबसे ज्यादा खुशियाँ लेकर आता है वह है रक्षा बंधन। यह हिंदू पंचांग के अनुसार श्रावण माह की पूर्णिमा के दिन पड़ता है और भाइयों और बहनों के बीच प्यार का जशन मनाता है।
लेकिन क्या आप इस पावन पर्व से जुड़ी कई प्रसिद्ध कहानियां जानते हैं? अगर नहीं, तो जानिये वो कहानिया जो रक्षा बंधन पर्व से जुडी हुई हैं!

संतोषी माँ

हर साल जब मनसा भगवान गणेश को राखी बांधने आती थीं तो उनके दोनों बेटे शुभ और लाभ उदास हो जाते थे क्योंकि उनकी कोई बहन नहीं थी। दोनों भाइयों ने अपने पिता भगवान गणेश से एक बहन मांगी और भगवान ने उनकी इच्छा पूरी की। गणेश जी ने अग्नि से एक कन्या को उत्पन्न किया, जो संतोषी मां थीं। बेटे, शुभ और लाभ एक बहन पाकर बहुत खुश थे जो हर रक्षाबंधन पर उन्हें राखी बांधती थीं।

इंद्र और इंद्राणी

रक्षा बंधन की शुरुआत कैसे हुई इसका कोई प्रमाण पवित्र हिंदू धर्मग्रंथों में नहीं है। लेकिन कई लोग मानते हैं कि इस त्यौहार की उत्पत्ति भगवान इंद्र और इंद्राणी की कहानी से हुई है। इस कथा के अनुसार रक्षाबंधन सबसे पहले पति को राखी बांधकर मनाया जाता था।
वर्षा और स्वर्ग के देवता भगवान इंद्र का एक शक्तिशाली शत्रु, असुर वृत्र था, जिसने युद्ध के दौरान भगवान को लगभग मार ही डाला था। इससे चिंतित होकर, भगवान इंद्र की पत्नी, इंद्राणी या शची ने भगवान विष्णु से मदद मांगी, जिन्होंने एक सफेद सूती धागा इंद्राणी को दिया और सुरक्षा के लिए भगवान इंद्र की कलाई पर बांधने को कहा। इंद्राणी ने वैसा ही किया जैसा उन्हें कहा गया था | धागा पहने हुए, भगवान इंद्र ने राक्षस वृत्र को मारकर युद्ध जीत लिया।

भगवान कृष्णा और द्रौपदी

इस कथा के अनुसार शिशुपाल के अपमान से क्रोधित होकर श्रीकृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से उसका वध कर दिया। जब चक्र उड़कर भगवान के पास वापस आया तो उससे उनकी उंगली कट गयी । यह देखकर द्रौपदी ने तुरंत अपनी साड़ी का एक टुकड़ा फाड़कर भगवान कृष्ण की उंगली पर लपेट दिया। तब भगवान कृष्ण ने जरूरत के समय उनकी रक्षा करने का वादा किया। और, हम सभी जानते हैं कि कैसे उन्होंने द्रौपदी को उसके पतियों के जुए में हारने के बाद बचाया था।

यम और यमुना

कुछ लोग यह भी मानते हैं कि रक्षा बंधन की शुरुआत इसी कहानी से हुई है। मृत्यु के राजा भगवान यम और नदी यमुना भाई-बहन थे | यमुना ने बारह वर्षों से अपने भाई को नहीं देखा था और उन्हें उनकी बहुत याद आती थी। फिर वह मदद के लिए मां गंगा के पास गईं। देवी गंगा ने भगवान यम को अपनी बहन से मिलने जाने के लिए कहा।
भगवान यम ने माँ गंगा की बात सुनी और अपनी बहन से मिलने गये जिन्होंने उनका प्रसन्नतापूर्वक स्वागत किया और उन्हें मिठाइयाँ और स्वादिष्ट भोजन दिया। यमुना ने यम की कलाई पर राखी भी बांधी। भगवान यम इस भाव से इतने प्रसन्न हुए कि उन्होंने अपनी बहन को अमरता का आशीर्वाद दिया। उन्होंने यह भी घोषणा की कि जो भी भाई अपनी बहन से राखी बंधवाएगा और अपनी बहन की रक्षा करेगा, वह अमर हो जाएगा।

भगवान विष्णु और पार्वती

एक और हृदयस्पर्शी कहानी ब्रह्मांड के सर्वोच्च देवता भगवान विष्णु और पार्वती की है। पार्वती हमेशा भगवान शिव से विवाह करना चाहती थीं, लेकिन अपने प्रेम सती के वियोग के कारण भगवन शिव उनसे विवाह करने से इनकार कर दिए । तब पार्वती ने भगवान शिव से विवाह करने के लिए कड़ी मेहनत की और भगवान विष्णु भी उनकी मदद के लिए आए। भगवान विष्णु ने पार्वती से उनकी कलाई पर एक धागा बांधने के लिए कहा, ताकि वह उनके रास्ते में आने वाली किसी भी बाधा का अंत कर सकें। अंततः पार्वती ने भगवान शिव से विवाह किया और भगवान विष्णु ने एक भाई के रूप में विवाह समारोह में अपने कर्तव्यों का पालन किया।

राजा बाली और माँ लक्ष्मी

यह कहानी है माँ लक्ष्मी और राजा बाली की। राजा बाली ने भगवान विष्णु से रक्षा की याचना की थी। इसलिए, भगवान विष्णु राजा बाली के पास गए और उनके द्वारपाल का रूप धारण कर लिया। घर पर माँ लक्ष्मी अपने पति भगवान विष्णु को याद कर रही थीं। वह एक ब्राह्मण स्त्री का भेष बनाकर पृथ्वी पर गई, जहां राजा बाली थे और उनसे आश्रय मांगा।
राजा बाली ने एक ब्राह्मण स्त्री के रूप में माँ लक्ष्मी का बहुत ख्याल रखा । पूर्णिमा के दिन लक्ष्मी माँ ने राजा बाली को रक्षा हेतु राखी बांधी। इस भाव से प्रसन्न होकर बाली ने देवी लक्ष्मी से पूछा कि वह बदले में क्या चाहती हैं। जिस पर माँ लक्ष्मी ने उत्तर दिया कि वह अपने पति को वापस चाहती हैं | और भगवान विष्णु अपने स्वयं रूप में प्रकट हो गए । पूरी कहानी सुनने के बाद, राजा बाली ने अपनी बहन, माँ लक्ष्मी की इच्छा पूरी की।

हुमायूँ और रानी कर्णावती

अपने पति राणा संघा की मृत्यु के बाद, महारानी कर्णावती ने मेवाड़ के आधिकारिक शासक के रूप में पदभार संभाला। राज्य पर गुजरात के बहादुर शाह ज़फ़र द्वारा हमला किया । इससे रानी चिंतित हो गई और उन्होंने अन्य राज्यों से सहायता की तलाश की।
महारानी कर्णावती ने हुमायूँ को पत्र लिखकर सुरक्षा की माँग की और उन्हें राखी भी भेजी। हुमायूँ युद्ध के बीच में थें, लेकिन वह रानी कर्णावती की मदद करने के लिए सब कुछ छोड़ कर आए , लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। महारानी ने अपनी इज्जत बचाने के लिए जौहर किया । लेकिन, हुमायूँ ने मदद का अपना वादा निभाया और बाद में रानी कर्णावती के बेटे विक्रमजीत के लिए राज्य बहाल कर दिया।

भगवान कृष्ण और सुभद्रा

सुभद्रा भगवान कृष्ण और बलराम की प्यारी बहन थीं। वह महान योद्धा अर्जुन से विवाह करना चाहती थी, परन्तु भाई बलराम इसके पक्ष में नहीं थे, लेकिन भगवान कृष्ण थे। उन्होंने अर्जुन से सुभद्रा के विवाह का समर्थन किया। यह भाई-बेहेन का बंधन इतना मजबूत और प्रिय है कि पुरी में श्री कृष्ण और बलराम के साथ सुभद्रा की भी पूजा की जाती है।

और ये थी प्रसिद्ध रक्षाबंधन कहानियाँ। रक्षा बंधन कब से शुरू हुआ, ये कहानिया हमें उसके बारे में बताती हैं | इन कहानियो से ये भी पता चलता है की भाई-बहन का रिश्ता, भले ही खून का रिश्ता न हो, लेकिन पवित्र और पक्का होता है। भाई-बहन, चाहे वे कहीं भी हों, हमेशा एक-दूसरे का ख्याल रखते हैं और एक-दूसरे की भलाई के लिए प्रार्थना करते हैं।

क्या आपने अपनी रक्षा बंधन की खरीदारी शुरू कर दी है? यदि नहीं, तो हमारे ऑनलाइन राखी स्टोर पर जाएँ और सर्वोत्तम कीमतों पर अपने भाइयो के लिए राखी और बहेनो के लिए उपहार खरीदें!

Verified by MonsterInsights